खामोशियां

कोई शोर नही,
खामोशियां है बस,
सब इसे सुन नही पाते,
मेरी खामोशियां जो समझे,
बस उसे सुनाई देते है . . .

छाया

– छाया

%d bloggers like this: