तुम्हें याद किया

हवाओं ने बालों को छूआ,
नैनो को अश्को ने डूबोया,
अहसासों की महक से महकी,
जब भी कोई नज़्म लिखी . . .

छाया

%d bloggers like this: