चाँद सुनता है

चाँद सुनता है,
मेरी हर बात,
जानता है ख्वाहिशों को,
हर शाम आता है फलक पर,
बस मुझसे मिलने और मैं एकटक,
देखती ही रहती हूँ तारों के बीच इठलाते चाँद को . . .

छाया

%d bloggers like this: