तुम

तुम खुले बालों में ही अच्छी लगती हो,
तो इसे बार बार बाँधने की जहमत क्यों भला,
कयामत  आनी ही है तो इसे खेलने दो हवाओं से. . .

छाया

%d bloggers like this: