कसक

थोड़ी कसक है दिल में,
थोड़ी उमस है दिल में,
कोई पढ़ता इसे ध्यान से,
शायद ठंडक मिलती,
करती बातें दो चार सामने बैठ,
शिकायतों की पोटली खोलती,
किसी की प्यारी थपकी से,
सुकूनवाली नींद आ जाती . . .

छाया

%d bloggers like this: