गुल

गुल ने छुपायी पंखुरीयों में,
नाजुक खुबसूरत नजाकत,
अफ़साना बया कर रहीअपने इश्क का,
अपनी अदा से हरदिल – अजीज प्यार की खूबसूरती बया करती . . .

छाया

%d bloggers like this: