तुम्हारी मुस्कुराहट

तुम्हारी मुस्कुराहटों से झड़ते मोतियों की,एक माला बनायी है,
कब आ रही हो आतुर मन इंतजार में है,इसे पहनाने को . . .

छाया

%d bloggers like this: