काँटे

काँटे की तरह,
चुभते हैं कई लोग,
नापसंद होते हैं फिर भी,
हमारे आस – पास होते हैं,
जीवन का हिस्सा होते हैं . . .

छाया

%d bloggers like this: