परछाई

परछाई बयाँ करती हैं,
मेरे चेहरे की तस्वीर,
जिसे मैं देख नही पाती,
कल पेशानी पर कुछ लकीरें दिखी,
परेशानी की थी शायद पानी से मिट नही रही थी . . .

छाया

%d bloggers like this: