जिंदगी तुम

जिंदगी तुम मेरी मिठी चाय बन जाओ,
जिसके हर घुट में मैं तुम्हें खुबसूरत और जायेकेदार,
महसूस करूँ . . .

छाया

%d bloggers like this: