स्नेह

स्नेह वो धागा हैं,
जो बहुत ही नाजुक हैं,
अपमान क्लेश स्वार्थ से,
टूट जाता हैं हमेशा के लिये . . .

छाया

%d bloggers like this: