एक झलक

एक झलक काफी है,
जिन्दगी की किसी भी पल,
हरपल कोई सबक सीखा जाती है,
गिरते सम्भलते मंजिल तक पहुँच ही जाते है . . .

छाया

%d bloggers like this: