गर्मी की छुट्टियाँ . . . लघुकथा

गर्मी की छुट्टियाँ

सबके लिये यादगार होती है ! हमें भी बचपन में इसका इंतजार रहता था कि कब छुट्टियाँ हो और हम अपने नानी के घर जाये ! सभी भाई बहनों के साथ गर्मी की छुट्टियाँ . . हमारा नानी का घर . . और वहाँ की मीठी यादें ! हमारा नानी घर गाँव में था पर किसी बड़े से फार्म हॉउस से कम नहीं था . .ईश्वर की कृपा से अभी भी है !
आम की गाछी के झूले . . अमरूद के पेड़ पर चढ़ अमरूद तोड़ना . . नाना . . नानी . . मामा का लाड़ – दुलार . . ये सब अभी भी मेरी स्मृति में है . . . और वहाँ का मीठा आलू . . . उसकी मिठास के आगे गुलाबजामुन भी फीकी लगे . . ऐसी होती थी हमारी गर्मी और गर्मी की छुट्टियाँ . . . बचपन की सुनहरी यादें . . .

छाया

9 विचार “गर्मी की छुट्टियाँ . . . लघुकथा&rdquo पर;

vermavkv को एक उत्तर दें जवाब रद्द करें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: