उम्मीद की आस

उम्मीद की एक आस में,
चाँद के झूले पर बैठी हूँ,
तारों से बात करते – करते,
रात हो गयी पर वो नही आया,

कितनी ही बातें करनी है,
मैं अब भी इंतजार में हूँ,
मन भी कुछ व्याकुल सा है,
बादल गरज-गरज कर बरस रहे,
उम्मीद की एक आस में . . .

छाया

9 विचार “उम्मीद की आस&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: