मजदूर

मैं श्रमिक हूँ . . . मजदूर नही ! प्रत्येक व्यक्ति की तरह में श्रम करता हूँ अपने परिवार के भरण – पोषण के लिये ! बार – बार मजदूर कह कर हमारा अपमान ना करे ! अपने स्वजनों से दूर हम वैसे ही मन से टूटे होते है फिर ये विकृत मानसिकता वाले लोग बार – बार मजदूर कह – कह कर हमें छोटे होने का अहसास दिलाते है ! हालात के हाथों मजबूर घर ही तो लौटने का प्रयास कर रहे थे कि हमारे साथ ये ट्रेन हादसा . . . कम से कम अब इस घटना के बाद हमारे  परिवार के साथ सियासत ना करें . . . . यहीं हमारे लिये आपसब की ओर से श्रधांजलि होगी . . .

छाया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: