रात से संवाद . . .

रात तो मेरी बहुत अच्छी सहेली है ! सारे मन की बात करती हूँ मैं इससे . . खुशी . . गम . . तन्हाई. . और ये एक अच्छी सहेली की तरह मेरी हर
बात सुनती है बड़े प्यार से . . आत्मीयता के साथ ! मैं
हमेशा रात से जब बातें करती हूँ तब कहती हूँ कि अगर तुम जैसी सहेली ना होती तो क्या होता ! पूरा दिन मैं इस इंतजार में काटती हूँ कि कब तुम आओगी और हमारी बातें होगी ! सचमुच तुम मेरी सबसे प्रिय सहेली हो . . .

छाया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: